Bajrang Baan | बजरंग बाण – Brijesh Shandilaya

Bajrang Baan“Bajrang Baan” is one of the most powerful Hanuman Ji Stotra written by Saint Goswami Tulsidas. It is said when no Mantra works, one should listen to this with full devotion, and Shri Hanuman Ji himself Comes to rescue the devotee from whatever problem he is facing.
Lord Hanuman is believed to be the god of Kalyuga and this devotional Bhajan is said to be the direct link to Bajrang Bali.
This is amongst the most popular Hanuman Ji hymns after Shri Hanuman Chalisa.

It is said that we should recite the Bajrang Baan only in case of special need like when you are stuck in a grave crisis, all circumstances are against you, if there is no way of getting out of them, then the Bajrang Baan on Tuesday or Saturday proves to be extremely helpful. Keep in mind that this is not something you should recite at any time.

When you recite Bajrang Baan for the accomplishment of a particular work and if that work is successful, then take a pledge that you will definitely do something regularly to serve Hanuman Ji.
“Jai Shri Ram”Hanuman Chalisa Lyrics – Hariharan

“बजरंग बाण” संत गोस्वामी तुलसीदास द्वारा लिखित सबसे शक्तिशाली हनुमान जी स्तोत्र में से एक है। ऐसा कहा जाता है कि जब कोई मंत्र काम नहीं करता है, तो उसे पूरी भक्ति के साथ सुनना चाहिए, और श्री हनुमान जी स्वयं भक्त को किसी भी समस्या से बचाने के लिए आते हैं। भगवान हनुमान को कलयुग का देवता माना जाता है और इस भक्ति भजन को बजरंगबली की सीधी कड़ी कहा जाता है। यह श्री हनुमान चालीसा के बाद सबसे लोकप्रिय हनुमान जी भजनों में से एक है।

कहा जाता है बजरंग बाण का पाठ हमें विशेष आवश्यकता की स्थिति में ही करना चाहिए जैसे कि जब आप किसी गंभीर संकट में फंस जाते हैं, सभी परिस्थितियाँ आपके विरुद्ध होती हैं, उनसे निकलने का कोई रास्ता नहीं होता है, तो बजरंग बाण मंगलवार या शनिवार को अत्यंत सहायक सिद्ध होता है। ध्यान रखें कि यह ऐसा कुछ नहीं है जिसे आपको किसी भी समय पढ़ना चाहिए। 

जब आप किसी विशेष कार्य की सिद्धि के लिए बजरंग बाण का पाठ करते हैं और वह कार्य सफल हो जाता है, तो संकल्प लें कि आप हनुमान जी की सेवा के लिए नियमित रूप से कुछ न कुछ अवश्य करेंगे।
“जय श्री राम”

Bajrang Baan | बजरंग बाण Credits

Singer:- Brijesh Shandilya
Lyrics:-Traditional (Tulasidas)
Music:-Kuldeep Shukla
Associate Producer:-Reshmita Das
Music Label:- Everybody Productions

Also Available Mp3 Song Download – Link

Also Available in Language Fonts – Hindi, English.

Bajrang Baan in Hindi

दोहा :

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान

चौपाई :

जय हनुमंत संत हितकारी ।
सुन लीजै प्रभु विनय​ हमारी॥

जन के काज बिलंब न कीजै।
आतुर दौरि महासुख दीजै॥

जैसे कूदि सिंधुमहि पारा।
सुरसा बदन पैठि बिस्तारा॥

आगे जाई लंकिनी रोका।
मारेहु लात गई सुर लोका॥

जाय बिभीषन को सुख दीन्हा।
सीता निरखि परम पद लीन्हा॥

बाग उजारि सिंधु महँ बोरा।
अति आतुर य​मकातर तोरा॥

अक्षय कुमार मारि संहारा।
लूम लपेटि लंक को जारा॥

लाह समान लंक जरि गई।
जय जय धुनि सुरपुर नभ भई॥

अब बिलंब केहि कारन स्वामी।
कृपा करहु उर अन्तर्यामी॥

जय जय लखन प्राण​ के दाता।
आतुर होय दु:ख हरहु निपाता॥

जै हनुमान जयति बलसागर।
सुर समूह समरथ भटनागर॥

ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले।
बैरिहि मारु बज्र कै कीले॥

गदा बज्र लै बैरिहिं मारो।
महाराज प्रभु दास उबारो॥
ॐकार हुँकार महाप्रभु धावो।
बज्र गदा हनु विलम्ब न लावो॥

ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपिशा।
ॐ हुं हुं हुं हनु भक्त​ उर शीशा॥
सत्य होउ हरि शपथ पाय के।
राम दूत धरु मारु जाय के॥

जय जय जय हनुमन्त अगाधा।
दु:ख पावत जन केहि अपराधा॥
पूजा जप तप नेम अचारा।
नहि जानत हौं दास तुम्हारा॥

वन उपवन मग गिरि ग्रह माँही।
तुम्हरे बल हम डरपत नाहीं॥
पाँय परौं कर जोरि मनावौं।
यहि अवसर अब केहि गोहरावौं॥

जय अंजनि कुमार बलवंता।
शंकर सुवन बीर हनुमंता॥
बदन कराल काल कुल घालक।
राम सहाय सदा प्रति पालक॥

भूत प्रेत पिशाच निशा​चर।
अग्नि बेताल काल मारी मर॥
इन्हें मारु तोहि शपथ​ राम की।
राखहु नाथ मरजाद नाम की॥

जनकसुता हरि दास कहावौ।
ताकी श​पथ बिलंब न लावौ॥
जय​ जय​ जय​ धुनि होत अकाशा।
सुमिरत होत​ दुसह दु:ख नाशा॥

चरण शरण​ कर जोरि मनावौं।
यहि अवसर​ अब केहि गोहरावौं॥
उठु उठु चलु तोहि राम दुहाई।
पायँ परौं, कर जोरि मनाई॥

ॐ चं चं चं चं चपल चलंता।
ॐ हनु हनु हनु हनु हनु-हनुमंता॥

ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल।
ॐ सं सं सहमि पराने खलदल॥
अपने जन को तुरत उबारौ।
सुमिरत होय आनंद हमारौ॥

यह बजरंग-बाण जेहि मारै।
ताहि कहौ फिर कौन​ उबारै॥
पाठ करै बजरंग-बाण की।
हनुमत रक्षा करै प्राण​ की॥

यह बजरंग बाण जो जापैं।
तासों भूत-प्रेत सब कापैं॥
धूप देय जो जपै हमेसा।
ताके तन नहिं रहै कलेसा॥

दोहा :

प्रेम प्रतितिहि कपि भजै, सदा धरै उर ध्यान।
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करै हनुमान॥
अथवा
उर प्रतीति दृढ़ सरन भय​, पाठ करै धरि ध्यान।
बाधा सब हर करैं, सब काम सफल हनुमान॥

Doha :

Nishchay Prem Prateeti Te, Vinay Kare Sanmaan II
Tehi Ke Kaaraj Sakal Shubh, Siddh Kare Hanumaan II

Chaupaai :

Jay Hanumant Sant Hitakaari I
Sun Leejai Prabhu Vinay Hamaari II
Jan Ke Kaaj Vilamb Na Keeje I
Aatur Dauri Mahaasukh Deeje II

Jaise Koodi Sindhumahi Paara I
Sursa Badan Paithi Bistaara II
Aage Jaai Lankini Roka I
Maarehu Laat Gayi Sur Loka II

Jaay Bibheeshan Ko Sukh Deenha I
Seeta Nirakhi Param Pad Leenha II
Baag Ujaari Sindhu Mah Bora I
Ati Aatur Yamkaatar Tora II

Akshay Kumaar Maari Sanhaara I
Loom Lapeti Lank Ko Jaara II
Laah Samaan Lank Jari Gayi I
Jay Jay Dhuni Surapur Nabh Bhei II

Ab Vilamb Kehi Kaaran Swaami I
Krpa Karahu Ur Antaryaami II
Jay Jay Lakhan Praan Ke Daata I
Aatur Hoy Du:Kh Harahu Nipaata II

Jai Hanumaan Jayati Balasaagar I
Sur Samooh Samarath Bhatanaagar II
Om Hanu Hanu Hanu Hanumant Hatheele I
Bairihi Maaru Bajr Kai Keele II

Gada Bajr Lai Bairihin Maaro I
Mahaaraaj Prabhu Daas Ubaaro II
Omkaar Hunkaar Mahaaprabhu Dhaavo I
Bajr Gada Hanu Vilamb Na Laavo II

Om Hneen Hneen Hneen Hanumant Kapisha I
Om Hun Hun Hun Hanu Bhakt Ur Sheesha II
Saty Hou Hari Shapath Paay Ke I
Raam Doot Dharu Maaru Jaay Ke II

Jay Jay Jay Hanumant Agaadha I
Du:Kh Paavat Jan Kehi Aparaadha II
Pooja Jap Tap Nem Achaara I
Nahi Jaanat Haun Daas Tumhaara II

Van Upavan Mag Giri Grah Maanhee I
Tumhre Bal Ham Darapat Naaheen II
Paaye Paraun Kar Jori Manaavaun I
Yahi Avasar Ab Kehi Goharaavaun II

Jay Anjani Kumaar Balavanta I
Shankar Suvan Beer Hanumanta II
Badan Karaal Kaal Kul Ghaalak I
Raam Sahaay Sada Prati Paalak II

Bhoot Pret Pishaach Nishachar I
Agni Betaal Kaal Maaree Mar II
Inhen Maaru Tohi Shapath Raam Kee I
Raakhahu Naath Marajaad Naam Kee II

Janakasuta Hari Daas Kahaavau I
Taakee Shpath Vilamb Na Laavau II
Jay Jay Jay Dhuni Hot Akaasha I
Sumirat Hot Dusah Du:Kh Naasha II

Charan Sharan Kar Jori Manaavaun I
Yahi Avasar Ab Kehi Goharaavaun II
Uthu Uthu Chalu Tohi Raam Duhaee I
Paayan Paraun, Kar Jori Manaee II

Om Chan Chan Chan Chan Chapal Chalanta I
Om Hanu Hanu Hanu Hanu Hanu-Hanumanta II

Om Han Han Haank Det Kapi Chanchal I
Om San San Sahami Paraane Khaladal II
Apane Jan Ko Turat Ubaarau I
Sumirat Hoy Aanand Hamaarau II

Yah Bajarang-Baan Jehi Maarai I
Taahi Kahau Phir Kaun Ubaarai II
Paath Karai Bajarang-Baan Kee I
Hanumat Raksha Karai Praan Kee II

Yah Bajarang Baan Jo Jaapain I
Taason Bhoot-Pret Sab Kaapain II
Dhoop Dey Aru Japai Hamesa I
Taake Tan Nahin Rahai Kalesa II

Doha :

Prem Pratitihi Kapi Bhajai, Sada Dharai Ur Dhyaan I
Tehi Ke Kaaraj Sakal Shubh, Siddh Karai Hanumaan II
Or
Ur Prateeti Drdh Saran Bhay, Paath Karai Dhari Dhyaan I
Baadha Sab Har Karain, Sab Kaam Saphal Hanumaan II

==Bajrang Baan Bhajan Video==

 
If You Find Any Mistake Please Contact Us LyricsHurt.
 

LyricsHurt FAQs:

बजरंग बाण का पाठ कब करना चाहिए?

बजरंग बाण का पाठ हमें विशेष आवश्यकता की स्थिति में ही करना चाहिए जैसे कि जब आप किसी गंभीर संकट में फंस जाते हैं, सभी परिस्थितियाँ आपके विरुद्ध होती हैं, अतः बजरंग बाण का पाठ हमें किसी ख़ास उद्देश्य के लिए ही करना चाहिए। बजरंग बाण का पाठ करने के लिए मंगलवार या शनिवार का दिन सबसे उपयुक्त माना जाता है।

क्या महिलाएं बजरंग बाण का पाठ कर सकती है?

नहीं, महिलाओं के लिए बजरंग बाण का पाठ करना उपयुक्त नहीं बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार महिलाओं को बजरंग बाण का पाठ नहीं करना चाहिए परंतु वह हनुमान जी के श्री रूप के समक्ष दीपक जला सकती हैं तथा गूगुल की धूनी रमा सकती हैं। वह​ हनुमान चालीसा का पाठ कर सकती हैं।

बजरंग बाण पाठ करने से क्या होता है?

किसी भी तरह की परेशानी हो या डर, बजरंगबली का यह बजरंग बाण हर समस्या का अचूक समाधान साबित होगा। बजरंग बाण का नियमित पाठ करने से आत्म-विश्वास व साहस में वृद्धि होती है।

बजरंग बाण किसने लिखा है?

श्री हनुमान बजरंग बाण की रचना श्री गोस्वामी तुलसीदास जी ने की थी।

When should one recite Bajrang Baan?

We should recite Bajrang Baan only in case of special need, like when you are caught in a serious crisis, all the circumstances are against you, so we should recite Bajrang Baan only for a specific purpose. Tuesday or Saturday is considered the most suitable day to recite Bajrang Baan.

Can women recite Bajrang Baan?

No, it is not recommended for women to recite Bajrang Baan. According to the scriptures, women should not recite Bajrang Baan, but they can light a lamp in front of Shri Roop of Hanuman Ji and can make googol fumes. She can recite Hanuman Chalisa.

What happens by reciting Bajrang Baan?

Be it any kind of trouble or fear, this Bajrang Baan of Bajrangbali will prove to be the perfect solution to every problem. Regular recitation of Bajrang Baan increases self-confidence and courage.

Who wrote Bajrang Baan?

Shri Hanuman Bajrang Baan was composed by Shri Goswami Tulsidas ji.

Latest Post

You may also like...